Jamabandi Locked : बिहार में जमाबंदी को लेकर अब पहले करना होगा ये काम नहीं तो अंचल कार्यालय से ब्लॉक हो जायेगी जमाबंदी.

JOIN US
Jamabandi Locked  : अगर आपने अपनी जमीन की जमाबंदी को आधार कार्ड से लिंक कर लिया है और उसे मोबाइल नंबर से लिंक कर लिया है तो सब ठीक है, अन्यथा अगर एक महीने के अंदर आपने अपनी जमीन की जमाबंदी को आधार कार्ड से लिंक नहीं कराया है और उसे मोबाइल नंबर से लिंक नहीं कराया है तो पता चलने पर आपकी जमाबंदी रद्द हो जाएगी. अंचल कार्यालय द्वारा ब्लॉक कर दिया गया है इसलिए सभी लोग तुरंत अपनी जमीन की जमाबंदी को आधार कार्ड से लिंक कर मोबाइल फोन से लिंक करा लें ताकि वे अपनी जमाबंदी को ब्लॉक होने से बचा सकें।
भूमि के बारे में अद्यतन जानकारी प्राप्त करने के लिए

गौरतलब है कि जहानाबाद अंचल अधिकारी ने सभी जमीन मालिकों को अपनी जमीन की जमाबंदी को आधार कार्ड से लिंक करने का आदेश जारी किया है. यह भी कहा गया है कि जमाबंदी को आधार कार्ड से लिंक करने के बाद आपको इसे मोबाइल नंबर से भी लिंक करना होगा ताकि आपको जमीन के बारे में अपडेट जानकारी मिल सके.

टैक्स की जानकारी आपके मोबाइल फोन पर उपलब्ध करा दी जाएगी

सीओ द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि जो भी जमीन मालिक अपनी जमीन जमाबंदी को आधार कार्ड से लिंक करा चुके हैं और अपने मोबाइल नंबर से लिंक नहीं कराया है, तो उनकी जमीन जमाबंदी की अद्यतन जानकारी उनके मोबाइल नंबर पर उपलब्ध करायी जायेगी. सरकार द्वारा लगाए गए टैक्स में बढ़ोतरी और जमाबंदी में बदलाव की जानकारी भी मोबाइल नंबर पर दी जाएगी.
क्या है नियम

जमाबंदी को आधार कार्ड से लिंक करने के लिए जमीन मालिक को अपने स्थानीय टैक्स अधिकारी से मिलकर जमीन की रसीद, आधार कार्ड और मोबाइल नंबर देना होगा. इसके बाद कर अधिकारी द्वारा जमीन की ऑनलाइन जमाबंदी की प्रक्रिया को अंजाम दिया जाएगा. इसके बाद 10 दिन के अंदर जमीन मालिक को आधार कार्ड लिंक करने की ऑनलाइन सूचना उसके मोबाइल नंबर पर भेज दी जायेगी.

भू-माफियाओं के खिलाफ लड़ाई होगी और सख्त

जानकारों का कहना है कि अब जमीन के मामले में धोखाधड़ी करना बहुत मुश्किल हो जाएगा. इसको लेकर बिहार सरकार ने बड़ा कदम उठाया है. भूमि विवाद पर अंकुश लगाने के लिए अंचल कार्यालय ने विशेष अभियान चलाया है. जमाबंदी जमीन को आधार से जोड़ने के बाद कोई भी व्यक्ति फर्जी रजिस्ट्री नहीं करा सकेगा. कलेक्शन के लिए मोबाइल नंबर भी अनिवार्य कर दिया गया है.
आय रसीद प्रदान की जानी चाहिए

संबंधित अधिकारियों को दिया है. दंगा जमाबंदी को हल्का पदाधिकारी को अपनी आय रसीद की छाया प्रति एवं आधार कार्ड के साथ अपना मोबाइल नंबर उपलब्ध कराना होगा। इसके बाद हल्का पदाधिकारी द्वारा जमीन को रैयत के जमाबंदी मोबाइल नंबर और आधार कार्ड से लिंक कर दिया जायेगा.

अगर जमाबंदी रैयत की मृत्यु हो जाए तो करें ये काम

जमाबंदी पंजी को आधार कार्ड से जोड़ने में सबसे बड़ी समस्या यह है कि अभी भी बड़ी संख्या में ऐसे जमाबंदी हैं जिनके रैयत की मृत्यु हो चुकी है और उनके नाम पर ही आय रसीद निर्गत होती है. लेकिन इसके लिए उसे कई प्रक्रियाओं से गुजरना होगा.

क्या कहते हैं अधिकारी

जहानाबाद कमांडर संजय कुमार अबष्ट ने बताया कि सभी जमीन मालिकों को एक माह के अंदर अपनी जमीन की जमाबंदी को आधार कार्ड से लिंक कराने का निर्देश दिया गया है, ऐसा नहीं करने वालों की जमाबंदी बंद कर दी जायेगी.

Leave a comment